Gaurav Tripathi's journey from the son of a general store owner to becoming an IPS officer is nothing short of inspiring


एक जनरल स्टोर के मालिक के बेटे से आईपीएस अधिकारी बनने तक गौरव त्रिपाठी का सफर किसी प्रेरणा से कम नहीं है। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के रहने वाले गौरव का पालन-पोषण आर्थिक तंगी से हुआ, उनके पिता एक मामूली जनरल स्टोर चलाते थे। हालाँकि, अपने माता-पिता के अटूट समर्थन से, उन्होंने दृढ़ संकल्प के साथ इन चुनौतियों का सामना किया।

उनकी शैक्षणिक यात्रा उन्हें प्रतिष्ठित आईआईटी रूड़की तक ले गई, जहां उन्होंने अपने धैर्य और शैक्षणिक कौशल के माध्यम से उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। शैक्षणिक क्षेत्र में अपनी सफलता के बावजूद, गौरव को सार्वजनिक सेवा की ओर झुकाव महसूस हुआ, जिससे उन्होंने चुनौतीपूर्ण यूपीएससी परीक्षाओं पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

गौरव की सफलता की राह बाधाओं से रहित नहीं थी। यूपीएससी परीक्षा में अपने पहले दो प्रयासों में, हालांकि उन्होंने प्रीलिम्स और मेन्स पास कर लिया, लेकिन साक्षात्कार दौर में उन्हें अस्वीकृति का सामना करना पड़ा। निडर होकर, उन्होंने निराशा के सामने झुकने से इनकार करते हुए, एक कठोर अध्ययन कार्यक्रम जारी रखा।

उनके प्रयास अंततः उनके चौथे प्रयास में सफल हुए, जहां उन्होंने 226 की प्रभावशाली अखिल भारतीय रैंक हासिल की। इस उपलब्धि ने उनके लचीलेपन और उनके लक्ष्यों के प्रति अटूट प्रतिबद्धता को रेखांकित किया।

शैक्षणिक चुनौतियों के अलावा, गौरव को वजन बढ़ने सहित व्यक्तिगत बाधाओं का भी सामना करना पड़ा। हालाँकि, दृढ़ संकल्प और अनुशासन के माध्यम से, वह अपने अटूट संकल्प का प्रदर्शन करते हुए, केवल तीन महीनों में 16 किलोग्राम वजन कम करने में कामयाब रहे।

गौरव त्रिपाठी की यात्रा विपरीत परिस्थितियों पर मानवीय भावना की जीत का एक प्रमाण है। यह एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है कि समर्पण, दृढ़ता और आत्म-विश्वास के साथ, कोई भी प्रतीत होने वाली दुर्गम बाधाओं को पार कर सकता है और अपने सपनों को साकार कर सकता है। उनकी कहानी गहराई से प्रतिबिंबित होती है, जो जीवन के सभी क्षेत्रों के महत्वाकांक्षी व्यक्तियों को आशा और प्रेरणा प्रदान करती है।

 

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने