IAS Success Story: Soumya Sharma


 

संघर्ष से सफलता तक: यूपीएससी में सौम्या शर्मा की प्रेरक यात्रा


दिल्ली की रहने वाली सौम्या शर्मा ने बहुत कम समय में यूपीएससी परीक्षा पास कर एक उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की। उनकी सफलता की यात्रा चुनौतियों और बाधाओं से भरी थी, लेकिन उनके दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत ने उन्हें एक प्रभावशाली रैंक हासिल करने के लिए प्रेरित किया।

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करना कोई आसान काम नहीं है, क्योंकि यह देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है, जिसके लिए महीनों की कड़ी तैयारी की आवश्यकता होती है। हालाँकि, हर किसी की सफलता का सपना पूरा नहीं होता। फिर भी, सौम्या शर्मा जैसे लोग हैं जो थोड़े से प्रयास से इस कठिन परीक्षा को पास करने में सफल हो जाते हैं। उनकी कहानी समर्पण और दृढ़ता की है, क्योंकि उन्होंने 2017 में यूपीएससी परीक्षा में 9 की अखिल भारतीय रैंक (एआईआर) के साथ शीर्ष स्थान हासिल किया था।

सौम्या ने अपनी शैक्षणिक यात्रा दिल्ली में शुरू की और नेशनल लॉ स्कूल से कानून की डिग्री प्राप्त की। लॉ स्कूल के अंतिम वर्ष के दौरान उन्होंने यूपीएससी परीक्षा देने का फैसला किया। रास्ते में कई बाधाओं का सामना करने के बावजूद, वह अविचल रहीं। सौम्या ने 2017 में अपने पहले प्रयास में यूपीएससी परीक्षा उत्तीर्ण की और कुल मिलाकर नौवीं रैंक हासिल की।

सौम्या की प्रेरणादायक कहानी किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सफल होने के इच्छुक लोगों के लिए आशा की किरण के रूप में काम करती है। उनकी यात्रा असफलताओं से रहित नहीं थी; उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसमें परीक्षा अवधि के दौरान बीमार पड़ना भी शामिल था। हालाँकि, उसने इन बाधाओं का डटकर सामना किया और अंततः विजयी हुई।

जब सौम्या ने यूपीएससी परीक्षा में बैठने का फैसला किया तो उनके पास तैयारी के लिए कुछ ही महीने बचे थे. सीमित समय के बावजूद, उन्होंने लगन से काम किया और अपने पहले ही प्रयास में प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण कर ली। फिलहाल, सौम्या मुख्य परीक्षा के लिए तैयारी कर रही है और तैयारी प्रक्रिया में अपना दिल और आत्मा लगा रही है।

कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए सौम्या ने लचीलेपन और दृढ़ संकल्प का उदाहरण पेश किया। मुख्य परीक्षा के दिन, उन्हें तेज बुखार हो गया, लेकिन उनके अटूट समर्पण ने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद, वह अच्छे अंकों के साथ परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफल रही।

सौम्या शर्मा की कहानी दृढ़ता और कड़ी मेहनत की शक्ति का प्रमाण है। यह इस तथ्य को रेखांकित करता है कि दृढ़ संकल्प और समर्पण के साथ, कोई भी किसी भी बाधा को पार कर सकता है और अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकता है, चाहे यात्रा कितनी भी चुनौतीपूर्ण क्यों न हो।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने